भारी पड़ गया शवों पर पेशाब करना

 मंगलवार, 25 सितंबर, 2012 को 01:22 IST तक के समाचार
अमरीकी मरीन

अमरीकी फ़ौज का कहना है कि उन दो अमरीकी मरीन का कोर्ट मार्शल किया जाएगा जिन्हें एक क्लिक करें वीडियो में अफगानिस्तान में तालिबान के शवों पर पेशाब करते दिखाया गया है.

अमरीकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन के मुताबिक, फौज़ के ये दो जवान उन चार जवानों में शामिल हैं जो जनवरी में इंटरनेट पर डाले गए इस वीडियो में नजर आ रहे हैं.

इनके नाम स्टाफ़ सार्जेंट जोसेफ़ चैम्बलिन और एडवर्ड डिप्टोला हैं. उन पर ये आरोप भी है कि उन्होंने अपने जूनियर मरीन्स के दुराचरण को नहीं रोका और इस बारे में फ़ौज को नहीं बताया.

और भी हैं आरोप

इसके अलावा नॉर्थ कैरोलिना में तैनात दो नॉन-कमीशन्ड अफ़सरों पर हताहत लोगों की तस्वीरें इंटरनेट पर जारी करने का आरोप है.

मरीन कोर के मुताबिक, माना जाता है कि ये घटनाएं अफगानिस्तान के हेलमंद प्रांत में 27 जुलाई 2011 के आसपास की हैं जब वहां चरमपंथ-निरोधी अभियान जारी था.

स्टाफ़ सार्जेंट जोसेफ़ चैम्बलिन और एडवर्ड डिप्टोला के खिलाफ इस अभियान के दौरान दुराचरण के और भी आरोप हैं.

उन पर आरोप है कि उन्होंने अपने जूनियर मरीन्स की निगरानी ठीक तरह से नहीं की. दोनों पर ये आरोप भी है कि उन्होंने ग्रेनेड लॉन्चर संबंधी एक भूल के बारे में भी सेना को जानकारी नहीं दी.

वीडियो में दिखाया गया है कि एक मरीन तालिबान के शवों पर पेशाब कर रहा है और दूसरे मरीन से 'हैव ए गुड डे बडी' कह रहा है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.