पांच ब्रितानी सैनिकों पर हत्या का मुकदमा

  • 14 अक्तूबर 2012
Image caption पांचों सैनिकों को फिलहाल हिरासत में रखा गया है

ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि साल 2011 में अफगानिस्तान में हुई हत्या के संबंध में ब्रितानी फौज के पांच जवानों पर मुकदमा चलाया जाएगा.

मंत्रालय का कहना है कि इस मामले में कुल नौ सैनिकों को गिरफ़्तार किया गया था. जिनमें से चार को बाद में रिहा कर दिया गया.

पांचो सैनिकों को फिलहाल एक जेल में रखा गया है जिनका एक सैनिक अदालत में कोर्ट मार्शल किया जाएगा.

इन लोगों को सेना पुलिस ने उनके लैपटॉप पर कुछ संदिग्ध सामग्री पाए जाने के बाद गिरफ़्तार किया था.

ये मामला पिछले साल अफ़ग़ानिस्तान में हुई एक घटना से भी जुड़ा है जबकि ये सैनिक हेलमंड में तैनात थे.

पहले रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि ये चरमपंथी के साथ मूठभेड़ का मामला है और इससे किसी भी आम शहरी का कोई संबंध नहीं.

दिशा-निर्देश

बीबीसी के एंड्रयू मारशो पर रक्षा मंत्री फिलिप हैमंड ने इस बारे में किसी तरह की जानकारी देने से इंकार कर दिया हालांकि ये ज़रुर कहा, “ सेना को युद्ध क्षेत्र में काम कैसे करना हैं इसके दिशा निर्देश स्पष्ट हैं.”

फिलिप हैमंड ने कहा, “ युद्ध क्षेत्र में मौजूद हर सैनिक जानता हैं कि उसे क्या करना है और क्या नहीं. सैनिकों की वर्दी में एक कार्ड होता हैं जिसपर कायदे लिखे होते है और वो उन्हें पढ़ सकते हैं.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, “इन सैनिकों पर हत्या का मुकदमा चलाया जाएगा और जब तक ये मुकदमा चलेगा वो हिरासत में रहेंगे. अभी जांच चल रही है, इस से ज्यादा इम मामलें में अभी टिप्पणी करना उचित नहीं होगा.”

अफगानिस्तान संघर्ष शुरु होने के बाद ये पहला मामला है जिसमें ब्रिटिश सैनिकों पर ऐसे आरोप लगें है और उन्हें गिरफ्तार किया गया है.

संबंधित समाचार