रिश्ते टूटने में वक़्त नहीं लगता: बिपाशा

  • 12 मार्च 2013
बिपाशा बासु

अब ये भला कौन नहीं जानता कि अभिनेत्री बिपाशा बासु एक नहीं बल्कि दो बार प्यार में अपनी किस्मत आज़मा चुकी हैं. लेकिन दोनों ही बार उनके हाथ कुछ लगा नहीं.

तो क्या यही वजह है कि उनका रिश्तों पर से यकीन ही उठ गया है. या फिर इसका कोई और कारण है.

बीबीसी से बात करते हुए बिपाशा कहती हैं कि आज की तारीख़ में किसी भी रिश्ते पर भरोसा नहीं किया जा सकता.

अगर उनकी माने तो आज हर लड़की को आत्मनिर्भर होना चाहिए.

बिपाशा कहती हैं, ''आज़ादी हर लड़की का हक है. और हर लड़की को आर्थिक तौर पर ज़रूर आत्मनिर्भर होना चाहिए.''

अपनी बात को पूरा करते हुए वह कहती हैं, ''आजकल रिश्ते टूटने में वक़्त नहीं लगता है. फिर चाहे वो आपके माता-पिता हों, पति हों या फिर आपके प्रेमी ही क्यों न हों. आप किसी भी रिश्ते पर यकीन नहीं कर सकते.''

बिपाशा कहती है कि वो जिस भी लड़की से मिलती हैं उसे इस बात के लिए प्रोत्साहित करती हैं कि वो कुछ न कुछ काम ज़रूर करे ताकि वो अपने लिए पैसे कमा सके.

ज़्यादा भावुक कौन?

बात अगर रिश्तों की ही हो तो ऐसा माना जाता है कि महिलाएं ज़्यादा भावुक होती हैं.

इस सवाल के जवाब में बिपाशा कहती हैं कि ऐसा नहीं है कि पुरुष भावुक नहीं होते, बस उनके तरीके महिलाओं से ज़रा अलग होते हैं.

बिपाशा ये भी मानती हैं कि जिस दिन महिला और पुरुष दोनों एक दूसरे की इस बात को समझने लगेंगे उस दिन दोनों के बीच का रिश्ता और भी मज़बूत हो जाएगा.

वह कहती हैं, ''एक दूसरे को समझना इतना मुश्किल भी नहीं है बस एक कोशिश की ज़रूरत है.''

आने वाली फिल्म

आज फिल्म इंडस्ट्री में बिपाशा की अपनी एक अलग जगह है, एक अलग मुकाम है. तो क्या इस बात पर बिपाशा को गर्व है?

इस सवाल के जवाब में वो कहती हैं, ''मुझे इस बात पर गर्व है कि मैं अपने देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी अपने नाम से जानी जाती हूं. और ये सब मैंने खुद अपने बूते पर किया है. मैंने कभी किसी की मदद नहीं ली, मैंने कभी अपने उसूलों के साथ समझौता नहीं किया. मैं अपनी शर्तों पर यहां तक पहुंची हूं. मैं जब खुद को बिपाशा बासु कहती हूं तो बड़े ही गर्व के साथ कहती हूं.''

बिपाशा जल्द ही सुपर्ण वर्मा निर्देशित फिल्म आत्मा में नज़र आएंगी.

फ़िल्म 22 मार्च को रिलीज़ हो रही है. फ़िल्म में बिपाशा के साथ मुख्य भूमिका में हैं नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी.

संबंधित समाचार